भारत के पांच चमत्कारी मंदिर, आज तक कोई नहीं जान पाया इनके राज

3.ज्वाला देवी मंदिर  (Jawala Devi Temple)

हिमाचल के कांगड़ा घाटी के दक्षिण में 30 किमी की दूरी पर कालीधार पहाड़ी के मध्य स्थित है, माता ज्वाला देवी का प्रसिद्ध ज्वालामुखी मंदिर।यह मां सती के 51 शक्तिपीठों में से एक है।जिसके बारे में मान्यता है कि इस स्थान पर माता सती की जीभ गिरी थी। यहां स्थित देवी के मुख से हजारों वर्षों से अग्नि निकल रही है जो नौ रंग की होती हैं। इन नौ रंगों की ज्वालाओं को देवी शक्ति का नौ रुप माना जाता है। ये देवियां है: महाकाली,चंडी, महालक्ष्मी,  सरस्वती, हिंगलाज, अन्नपूर्णा, अम्बिका, विन्ध्यवासिनी और अंजी देवी।

कहते हैं कि सतयुग में महाकाली के परम भक्त राजा भूमिचंद ने स्वप्न से प्रेरित होकर यह भव्य मंदिर बनवाया था। जो भी सच्चे मन से इस रहस्यमयी मंदिर के दर्शन के लिए आया है उसकी सारी मनोकामनाएं पूरी हो जाती हैं।आज भी लोगों को यह पता नहीं चल पाया है यह प्रज्वलित कैसे होती है और यह कब तक जलती रहेगी?

About Ankita Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*