जानिए..भगवान् शिव क्यूँ कहलाए त्रिपुरारी.

भगवान् शिव की शक्ति के बारे में कौन नहीं जानता ! वैसे भी भगवान् शिव अपने भक्तो से जितनी जल्दी प्रसन्न हो जाते है उनका क्रोध भी उतना ही विनाशकारी होता है ! पर भगवान् शिव ने कभी अकारण अपना क्रोध प्रगट नहीं किया ! कहते है एक बार भगवान् शिव ने देवताओ की सहायता कर त्रिपुरो का विनाश किया था इसलिए कार्तिक मास की पूर्णिमा को त्रिपुरारी पूर्णिमा भी कहा जाता है ! दरअसल इस कथा के अनुसार दैत्य तारकासुर के तीन पुत्र थे जिनमे से एक का नाम तारकाक्ष,दूसरे का नाम कमलाक्ष और तीसरे का नाम विद्युन्माली था ! पर जब शिव जी के पुत्र कार्तिकेय ने तारकासुर का वध कर दिया तब उनके पुत्रों को बहुत दुःख हुआ ! देवताओं से बदला लेने के लिए उन्होंने घोर तपस्या किया और ब्रह्मा जी को खुश कर उनसे मनचाहा वरदान हासिल कर लिया !

पिछला1 of 3अगला

About Ankita Singh

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*